करोड़पति लड़की की अघोरी और नागा बाबाओं के रहस्यमयी जीवन पर रिसर्च

Gujarati girl research on Naga Babas mysterious life

Research on Naga Baba

वडोदरा: कड़कड़ाती ठंड, चिलचिलाती धूप हो या तेज बरसात... नंगे बदन पर भस्म लपेटे, आंखों में तेज लिए अघोरी और नागा बाबा इतने आक्रामक दिखाई पड़ते हैं कि आम आदमी इनके पास से गुजरने से भी डरता है, लेकिन वडोदरा की एक अमीर परिवार की हाई एजुकेटेड और पेशे से वकील युवती ने कई नागा बाबाओं और अघोरियों के साथ रहकर उनकी वे बातें भी जानीं, जिसका खुलासा नागा बाबा आसानी से नहीं करते।कुंभ के मेले, काशी और बनारस में कई दिनों तक रहकर की रिसर्च...
वडोदरा के इलोरा पार्क इलाके में रहने वाली 28 वर्षीय पलना पटेल ने जूनागढ़ की गुफाओं, कुंभ के मेले, काशी और बनारस में कई दिनों तक रुककर अघोरी और नागा बाबाओं की दिनचर्या अपनी आंखों से देखी है। पलना का कहना है कि ये साधू पूरे समय अपने शरीर को कष्ट देकर अनुष्ठान और सिद्धि हासिल करने में लगे रहते हैं। इनका नित्यकर्म बिल्कुल सेना के जवानों की तरह होता है। चाहे कड़ाके की ठंड हो या तेज बारिश। नागा साधु तड़के सुबह ही नहा लेते हैं और इसके बाद योग के अलावा अपने-अपने तरीके से साधना करते हैं।

पेशे से वकील पलना पटेल बताती हैं कि इस रिसर्च के बारे में सुनकर अधिकतर लोगों के मन में विचार आता है कि शायद मैं किसी धार्मिक अनुष्ठान करने वाले परिवार से संबंध रखती होऊंगी, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं। मेरे घर में भी आम लोगों की तरह पूजा-अर्चना होती है। मुझे लिखने-पढ़ने का भी शौक है और अपने दोस्तों के साथ पार्टी और क्लबों में जाकर डांस करने का भी। इसके अलावा मैं नाडियाद के संतराम मंदिर भी जाती हूं। एक बार मंदिर में दर्शन के दौरान मेरे गुरु नारायणदासजी महाराज से जीव, शिव और सत्संग की बातें करते-करते अघोरियों और नागा बाबाओं की भी बात निकली तो मैंने इनके बारे में जानने का निश्चय कर लिया।
Source: Bhaskar
Labels:

Post a Comment

News24x7

(c) News24x7

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget